फॉलो करें

हमारा ऐप डाउनलोड करें

नगर परिषद ने छोटी गलियों में कूड़ा उठाने के लिए 25 लाख की खरीदी 100 रेहड़ियां

30 के करीब रेहड़ियां डंप साइट पर पड़े पड़े हो रही खराब, लग रहा है जंग

नगर परिषद के अधिकारी नहीं दे रहे ध्यान

जीरकपुर / अखंड लोक संवाददाता

जीरकपुर। डोर टू डोर कूड़ा उठाने में हो रहा इस्तेमालशहर की मुख्य सड़क और गलियों में गंदगी फैली रहती है। लोगों द्वारा इस संबंधी शिकायते की जा रही थी। नगर परिषद के सफाई सेवकों द्वारा नई खरीदी गई 70 के करीब रेहड़ियों से डोर-टू-डोर कूड़ा उठाने काम किया जा रहा है। इन रेहड़ियों से कूड़ा उठाकर सेकेंडरी प्वाइंट तक लाया जाता है जहां से सूखे और गीले कूड़े को अलग अलग कर बिशनपुरा डम्पिंग साइट पर पहुंचाया जाता है। जो रेहड़ियां सफाई सेवक इस्तेमाल करते थे उनकी हालत खराब थी ,जिसके बाद नगर परिषद ने सफाई सेवकों के लिए 100 रेहड़ियां खरीदी । इसी तरफ नगर परिषद की पार्किंग में 46 लाख 36 हजार 416 रूपये की लागत से खरीदे गए ई-रिक्शा खराब हो रहे है जिनपर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

शहर में छोटी गलियों में कूड़ा उठाने के काम को सुचारु रूप से करने के लिए नगर परिषद ने एक महीने पहले 100 के करीब रेहड़ियां खरीदी थी। एक रेहड़ी की कीमत 25000 रूपये है यानि 25 लाख से 100 रेहड़ियां ली गई है। इन 100 रेहड़ियों में से 70 के करीब रेहड़ियां सफाई सेवकों को दे दी गई है और बाकी की 30 के करीब रेहड़ियों को बैकअप के तौर पर पभात डंप साइट पर रखा गया है। नगर परिषद के अधिकारियों के मुताबिक अगर किसी सफाई सेवक की रेहड़ी खराब होती है तो उसे 30 के करीब रेहड़ियों में एक दे दी जाएगी। देखरेख न होने के कारण रेहड़ियों को जंग लगना शुरू हो गया है और कई पॉट्स धुप में खराब हो रहे है। साढ़े सात लाख रूपये की करीब 30 रेहड़ियां पभात डंप साइट पर पड़े पड़े खराब हो रही है। जिस तरफ नगर परिषद के अधिकारी ध्यान नहीं दे रहे। यह रेहड़ियां पड़े पड़े कंडम हो रही है जबकि इन्हे खरीदे अभी सिर्फ एक महीना ही हुआ है। जब उन्हें रिप्लेस के तौर पर दिया जाएगा तब तक यह किसी काम की नहीं रहेगी। धुप और पानी लगने से रेहड़ियों के चक्को में जंग लग गई है।

Akhand Lok News
Author: Akhand Lok News

Share this post:

Leave a Comment

खबरें और भी हैं...

लाइव क्रिकट स्कोर

कोरोना अपडेट

Weather Data Source: Wetter Indien 7 tage

राशिफल